Friday, 11 August 2017

तेरी वापसी

                                            तेरी वापसी

                                       जूही , चमेली,कचनार
                                चंपा,बेला और हरसिंगार के फूल
                                        महक उठे फिर
                                        दिवस मास नहीं
                                 ऐसा लगा कि सदियों बाद
                                        तेरी वापसी हुई,

                                        घोंसले में चिड़िया
                                        गमकती, लरजती हवा
                                 अंधकार में ,तल-अतल में डूबी
                                        दिशाओं में रोशनी और

                                           सूखी पड़ी नदी में
                                               जल की नहीं
                                    तेरी और तेरी ही वापसी हुई,

नीले आकाश में सूरज-चाँद-सितारे
दिशायें खोजते पंछियों
और सात रंगों वाले 
इंद्रधनुष की वापसी नहीं
न जाने कितने और कितने ही दिनों बाद
तेरी और बस तेरी ही वापसी हुई
----- नीरु ( निरुपमा मिश्रा त्रिवेदी) 
Post a Comment