Thursday, 19 October 2017

अमावस की रात में

गुनगुनाये रागिनी जैसे, तुम अमावस की रात में

खिखिलाये फूल जैसे,तुम खुशबुओं की बरसात में

अमरबेल-सा प्रेम अपना, रहेगा हरदम सदियों तक

जगमगाये दीपक जैसे, तुम मन-आँगन-बारात में
---- नीरु ( निरुपमा मिश्रा त्रिवेदी)

Tuesday, 26 September 2017

शान अपनी सभी तो दिखाते रहे

                 शान अपनी सभी तो दिखाते रहे
                 दर्द भी क्या कहें गुनगुनाते रहे

                 आपके प्यार में हम बेहया हो गये
                 प्यार भी क्या ज़हर सब पिलाते रहे

                 आपने दे दिया ग़म यही है बहुत
                 और क्या दे सके मुस्कराते रहे

बात कुछ भी नहीं और बातें बहुत
आप भी तो कहानी सुनाते रहे

हम रहे राह में चल दिये दो कदम
आप मंजिल बहुत पास आते रहे
--- नीरु ( निरुपमा मिश्रा त्रिवेदी)

Monday, 4 September 2017

अब मिले आप

अब मिले आप भी, ज़िंदगी की तरह
रोशनी मिल गयी, बंदगी की तरह
हम नहीं बेख़बर, आपसे अब रहे
आप हैं अब हमारी,ख़ुशी की तरह
---- नीरु

Sunday, 3 September 2017

आसमां वही फिर उठाकर चले

                    आग दिल में हमारे लगाकर चले
                    आसमां भी वही फिर उठाकर चले

                     राह में ठोकरें भी बहुत- सी लगी
                     हौसले हम सभी फिर जगाकर चले

                     देखिये तो सनम इक इधर भी नज़र
                     हाथ भी तो हमीं से मिलाकर चले

आप भी साथ में अब हमारे हुए
ख़्वाब अपने सभी हम सजाकर चले

कौन दुश्मन हमारा यहाँ पर हुआ
भेद अपने सभी हम भुलाकर चले
---- नीरु ( निरुपमा मिश्रा त्रिवेदी)

Wednesday, 23 August 2017

शातिर निगाहें

                                                    सुबह के वक्त थोड़ी सुनसान सड़क
                                                       पर फैली गंदगी के बीच
                                                        सांवली-सलोनी काया
                                                   अपनी उम्र के हिसाब से कुछ ज़्यादा
                                                        ऊंचे कद के बांस के मुहाने पर

                                                        अपनी तनख्वाह से कई गुना ज़्यादा
                                                   तीलियों के झुंड को बांधकर तल्लीनता से
                                                       कुछ गुनगुनाती करती है साफ़-सफाई

     

ऐसे में कुछ सतर्क निगाहें
अपनी सेहत की फिक्र लिए
दौड़ती चली जाती,
और भी कई ऐसी ही शातिर निगाहें
सड़क पर फैली गंदगी
अपनी आँखों में समेटकर
घूरती रहती उस तल्लीनता से 
गंदगी साफ़ करती हुई लड़की को
----- नीरु ( निरुपमा मिश्रा त्रिवेदी)

Friday, 11 August 2017

तेरी वापसी

                                            तेरी वापसी

                                       जूही , चमेली,कचनार
                                चंपा,बेला और हरसिंगार के फूल
                                        महक उठे फिर
                                        दिवस मास नहीं
                                 ऐसा लगा कि सदियों बाद
                                        तेरी वापसी हुई,

                                        घोंसले में चिड़िया
                                        गमकती, लरजती हवा
                                 अंधकार में ,तल-अतल में डूबी
                                        दिशाओं में रोशनी और

                                           सूखी पड़ी नदी में
                                               जल की नहीं
                                    तेरी और तेरी ही वापसी हुई,

नीले आकाश में सूरज-चाँद-सितारे
दिशायें खोजते पंछियों
और सात रंगों वाले 
इंद्रधनुष की वापसी नहीं
न जाने कितने और कितने ही दिनों बाद
तेरी और बस तेरी ही वापसी हुई
----- नीरु ( निरुपमा मिश्रा त्रिवेदी) 

Monday, 19 June 2017

रंग अपने बचपन के

रंग बदलती हुई दुनिया में, रंग अपने बचपन के
उम्र भले ही कितनी होगी, दिल दो रहने बचपन से
दुनियादारी के चक्कर में, ख़ुद को भी हम भूल गये
हमसे हमको मिलवाये, वो ढंग सलोने बचपन के
---- नीरु ( निरुपमा मिश्रा त्रिवेदी)